क्या सीबीआई में आपको बंदूक दी जाएगी ?

इसका सीधा सीधा जवाब है – नहीं।

सीबीआई एक जांच एजेंसी है। स्थानीय पुलिस के विपरीत, इसमें कानून और व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी नहीं है। नतीजतन, यह संभावना नहीं है कि आपको सीबीआई में कभी भी हथियार फायर करने की जरूरत पड़ेगी | आइए विस्तार से बताता हूं- 

सीबीआई को मुख्य रूप से 2 चैनलों द्वारा मामले मिलते हैं।

1. Suo Moto (स्वयं द्वारा ही भ्रष्टाचार के मामले दर्ज करना)

2. राज्य सरकार, केंद्र सरकार, उच्च न्यायालय या सर्वोच्च न्यायालय के एक आदेश द्वारा।

Case – 1 

पहली प्रकार के मामलों में, सीबीआई केवल लोक सेवकों (public servents ) द्वारा किए जाने वाले भ्रष्टाचार के मामलों को दर्ज करती है। क्योंकि पब्लिक सर्वेंट अत्यधिक कुख्यात प्रकार के नहीं होते जो कि किसी हथियार का प्रयोग करें या जांच प्रक्रिया में कोई हंगामा पैदा करें, इसलिए सीबीआई को उनसे निपटने के लिए किसी हथियार की आवश्यकता नहीं है |सीबीआई का नाम मात्र ही एक पब्लिक  सर्वेंट को डराने के लिए काफी है |  

 इन मामलों की जांच एक सिविलियन प्रकार की होती है तथा सभी आरोपी हाईप्रोफाइल नागरिक या लोकसेवक होते हैं इसलिए इन केस की प्रकृति मात्र ही सीबीआई अधिकारियों द्वारा हथियार ले जाने के लिए अनुपयुक्त बना देती है |

यद्यपि यह कभी-कभी trap के मामलों में ऐसा होता है कि आरोपी सीबीआई अधिकारियों द्वारा बल के प्रयोग को अनिवार्य करता है, लेकिन फिर भी हथियार सीबीआई में प्रतिबंधित ही है। इस तरह के शारीरिक प्रतिरोध को केवल शारीरिक रूप से ही निपटाया जाना चाहिए। किसी अधिकारी द्वारा किसी हथियार को ले जाना गर्म जोशी के ऐसे क्षणों को रक्तरंजित बना सकता है जिसे किसी भी कीमत पर avoid करना चाहिए।

Case – 2 

मुकेश सर्वोच्च न्यायालय उच्च न्यायालय केंद्र सरकार या राज्य सरकार द्वारा सीबीआई को ट्रांसफर किए गए हैं वह किसी भी प्रकृति के हो सकते हैं – भ्रष्टाचार के, आर्थिक अपराध के तथा विशेष अपराध के भी |

पहले 2 तरीके के मामले आम तौर पर हानिरहित हैं लेकिन तीसरे में कुछ कुख्यात अभियुक्त शामिल हो सकते हैं। लेकिन इस तरीके के मामले स्थानीय पुलिस द्वारा प्राथमिक साक्ष एकत्र करने के बाद प्रारंभिक रिपोर्ट बनाने तथा संदिग्धों को गिरफ्तार करने के बाद ही सीबीआई को स्थानांतरित किए जाते हैं कुछ संदिग्ध आरोपी जो के भागे हुए हैं वह भी सावधान रहते हैं तथा ऐसी कोई गलती नहीं करते जिससे कि वह बेनकाब हो सके या उनकी पहचान पर्दाफाश हो सके इसलिए वह सीबीआई अधिकारियों से दूर ही रहते हैं इसलिए एक बार फिर सीबीआई अधिकारियों द्वारा हथियार ले जाना अनावश्यक हो जाता है | 

यहां तक कि सीबीआई अधिकारी जब छापे मारने भी जाते हैं तब भी अपने साथ हथियार नहीं ले जाते हैं। सीबीआई का नाम अपने आप में एक ऐसी ताकत है जिसकी वजह से आपको किसी हथियार  की जरूरत नहीं है। 

99% मामलों में ऐसी कोई इमरजेंसी नहीं होती कि आपको कभी हथियार की जरूरत पड़े। मैंने कहा 99% क्योंकि 1% संभावना है कि आपको हथियार की आवश्यकता हो सकती है।

कभी-कभी ऐसा होता है कि सीबीआई की विशेष इकाई शाखा (एसयू) ने कुछ विश्वसनीय इनपुट एकत्र किए हैं कि कुछ नकली मुद्रा नोटों को इस जगह पर रहने वाले लोगों द्वारा प्रसारित किया जाना है। यदि जानकारी सही है, तो इस रैकेट का भंडाफोड़ करने की आवश्यकता है। ऐसे मामलों में, 5-6 सदस्यों की एक टीम बनाई जाती है और अनुभवी लोगों को उनके नाम के तहत हथियार आवंटित किए जाते हैं। इस तरह के पर्दाफाश ऑपरेशन एसयू के द्वारा दिए जाने वाले समय की जानकारी पर कीये जाते हैं, इसलिए टीम को घटनास्थल पर तत्काल कार्रवाई करनी पड़ सकती है। ऐसे मामलों में, यह जरूरी हो जाता है कि टीम के सदस्यों को किसी भी आपात स्थिति के लिए निपटने के लिए हथियार आवंटित किए जाएं। लेकिन ऐसे मामले बहुत काम आते हैं लगभग हर 200 मामलों में एक बार | जो हथियार दिया जाता है वह पिस्तौल होता है।

Do you need a weapon in CBI?
सीबीआई में आपको बहुत rare cases में ही बंदूक दी जाती है |

CBI के नाम का इतना प्रभाव है कि अन्य विभागों के विपरीत, CBI अधिकारी स्थानीय पुलिस को अपने साथ छापों पर भी नहीं ले जाते हैं क्योंकि यह उनके साथ होने के लिए एक overkill है। ऐसा करने का एक और कारण यह है कि उन्हें पहले से कुछ भी बताना बहुत जोखिम भरा है; यहां तक ​​कि सीबीआई द्वारा एक संभावित छापे का उल्लेख भी मीडिया कर्मियों को सावधान कर सकता है और खबर जंगल की आग की तरह फैल सकती है, जिससे हर कोई सतर्क हो सकता है।

यद्यपि जब आप एक सब-इंस्पेक्टर के पद पर भर्ती होते हैं, तो आपको 5 दिनों के लिए हथियार प्रशिक्षण दिया जाएगा। वे प्रशिक्षण देने के लिए ग्लॉक पिस्तौल का उपयोग करते हैं। ग्लॉक पिस्तौल एक नवीनतम हथियार हैं जिनका उपयोग अमेरिका में बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। सीबीआई में वेपन ट्रेनिंग इसलिए दी जाती है क्योंकि सीबीआई एक पुलिस विभाग है तथा यह हर पुलिस विभाग की ट्रेनिंग का एक फीचर है कि उसमें वेपन ट्रेनिंग दी जाएगी |

इन सबके अंत में मैं यही कहना चाहता हूँ कि एक हथियार चारों ओर ले जाने के लिए एक बोझ है। यह किसी भी उद्देश्य की पूर्ति नहीं करता है इसलिए इसकी सीबीआई में avoid ही किया जाता है | 

पढ़ने के लिए धन्यवाद।

आगे पढ़ें –

  1. भाग 1: सीबीआई प्रशिक्षण का परिचय: सबसे अच्छी बात जो कभी मेरे साथ हुई।
  2. भाग 2: CBI प्रशिक्षण का सिलेबस: सबसे जादुई चीज।
  3. भाग 3: सीबीआई प्रशिक्षण में यात्रा और अभ्यास: जीवनकाल के अनुभव में एक बार।
  4. सीबीआई की विभिन्न शाखाएँ क्या हैं और उनमें से प्रत्येक में उप-निरीक्षक की क्या भूमिका है।
  5. सीबीआई में स्थानान्तरण, स्थान और पोस्टिंग।
  6. CBI में सब-इन्स्पेक्टर महिलाओं के लिए सबसे अच्छा विकल्प क्यों है ?
  7. सीबीआई में एक उप-निरीक्षक को क्या काम और कर्तव्य सौंपे जाते हैं?
  8. सीबीआई में एक सब इन्स्पेक्टर के pramotions केसे होते हैं तथा Direct DySP परीक्षा क्या है?
  9. सीबीआई उप-निरीक्षक को कितने छुट्टिया मिलती हैं – सैद्धांतिक और व्यावहारिक रूप से?
  10. एक सीबीआई सब इन्स्पेक्टर की सैलरी – ssc की सभी जॉब्स में सबसे बेहतर
%d bloggers like this: